चलती ट्रेन में चढ़ना महंगा पड़ा.. यूपी से महाराष्ट्र जा रहे यात्री का कामायनी एक्सप्रेस से पैर फिसला..

आरपीएफ के जवानों ने बचाई यात्री की जान..
 
yatri gira
भोपालचलती हुई ट्रेन में चढ़ना उतरना कितना घातक होता है इसका अंदाजा यात्री को तब लगता है जब वह ट्रेन की चपेट में आ जाता है और उसके अंग भंग होने या जान पर बन आने जैसी नौबत आ जाती है ताजा मामला भोपाल रेलवे स्टेशन पर कामायनी एक्सप्रेस के प्लेटफार्म छोड़ते समय सामने आया..
बनारस से कुर्ला जा रही कामायनी एक्सप्रेस के बुधवार सुबह भोपाल स्टेशन से रवाना होने के बाद चलती ट्रेन में चढ़ने की कोशिश में एक यात्री का पैर फिसल गया। दरअसल फैजाबाद निवासी राम विजय पांडे इलाहाबाद से ट्रेन में मनमाड जाने के लिए सवार हुए थे वह भोपाल पर ट्रेन के रुकने पर नाश्ता लेने के लिए उतरे थे इसी दौरान ट्रेन के चल पड़ने पर उन्होंने दौड़ कर ट्रेन को पकड़ने की कोशिश की और इसी चक्कर में वह प्लेटफार्म से चलती ट्रेन के बीच गिर ट्रेन के नीचे आ गए। इस घटना में उसका एक पैर धड़ से अलग हो गया। हालांकि समय रहते घटना को ट्रेन के पिछले डिब्बे में झंडी दिखा रहे गार्ड ने देख लिया और उसने तुरंत ट्रेन रुकवा दी।

tren se gira

वही आरपीएफ के प्लेटफार्म पर मौजूद  जवानों ने तत्परता दिखाते हुए ट्रेन के नीचे फंसे यात्री को निकाल कर हमीदिया अस्पताल भिजवाया जिससे उसकी जान तो बच गई लेकिन उसके एक पैर को फिर से नहीं जोड़ा जा सका। उपरोक्त घटनाक्रम के चलते कामायनी एक्सप्रेस आधे घंटे तक प्लेटफार्म एक पर खड़ी रही। यात्री की जान बचाने में साहस का परिचय देने वाले आरपीएफ के प्रधान आरक्षक अमित अवस्थी, राधेश्याम यादव, आरक्षक समशेर आलम ने बताया कि यात्री राम विजय पांडे ट्रेन के पहिए से बुरी तरह लिपटा हुआ था उन्हें निकालने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ी। तब तक आरपीएफ के एएसआई हसन खान व रेलवे के अधिकारी, कर्मचारी भी आ गए थे। सभी ने सहयोग किया और उन्हें बाहर निकाला गया। घटना में यात्री का एक पैर कट गया। सीने, सिर, हाथों में और दूसरे पैर में गंभीर चोटें आईं हैं।
 

From Around the web