NH पर मैहर से लौट रहे श्रद्धालुओं की बोलेरो को ट्रक ने टक्कर मारी.. इधर तेंदूखेड़ा के जंगल में झिरिया में करंट फैलाकर रीझ का शिकार..

संदिग्धों का पता लगाने पहुंचा डॉग एस्कॉर्ट..
 
nh
मैहर जबलपुर हाईवे पर सोमवार को एक तेज रफ्तार ट्रक द्वारा बोलेरो को मारी गई जोरदार टक्कर में 2 जिले के तेंदूखेड़ा क्षेत्र निवासी आधा दर्जन श्रद्धालु घायल हो गए जिनमें चार की हालत गंभीर बताई जा रही है जिनका मैहर में इलाज जारी है। इधर तेंदूखेड़ा के जंगल में झिरिया में करंट फैलाकर रीझ का शिकार किए जाने का घटनाक्रम सामने आया है..
मैहर से लौट रहे श्रद्धालुओं की बोलेरो को ट्रक ने टक्कर मार
दमोह। प्राप्त जानकारी के अनुसार दमोह जिले के तेंदूखेड़ा सहित आसपास के क्षेत्र के श्रद्धालुओं सोमवार को मैहर में माँ शारदा के दर्शन उपरांत वापिस लौट रहे थे। इनकी बोलेरो गाड़ी क्रमांक एमपी 20 MP बीए 4362 को 15 किमी आगे कटनी जबलपुर मार्ग पर सामने से आ रहे एक ट्रक ने जोरदार टक्कर मार दी। जिससे बोलेरो का सामने का हिस्सा जहां बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया वही बोलेरो में सवार 4 श्रद्धालु गंभीर रूप से घायल हुए हैं। जिनमे झरौली निवासी वंदना केवट, गुलाब बाई, सत्तीबाई एवं बोलेरो चालक महेंद्र केवट तेंदूखेड़ा निवासी का मैहर में इलाज जारी है।  उल्लेखनीय है कि तेंदूखेड़ा से 22 दिसंबर को 800 लोगों का जत्था मैहर गया था। जिनसे मिलने के साथ ही दर्शन करने के लिए तेंदूखेड़ा से कई श्रद्धालु अपने अपने वाहन से मैहर गए थे। जो सोमवार को दर्शन करके वापस तेंदूखेड़ा लौट रहे थे लेकिन रास्ते में यह हादसा हो गया।

तेंदूखेड़ा के जंगल में करंट फैलाकर रीझ का शिकार..

दमोह। जिले के तेंदूखेड़ा वन परिक्षेत्र अंतर्गत सैलवाडा सर्किल के सिलपुरा प्लांटेशन के पास झिरिया करंट का जाल फैलाकर एक मादा रीछ का शिकार किए जाने का घटनाक्रम सामने आया है। वन विभाग के अधिकारियों ने मौके पर पहुंच कर जांच पड़ताल करते हुए मृतक रीच का अंतिम संस्कार करा दिया है उल्लेखनीय की इसी स्थान पर साल के शुरुआत में भी ऐसा ही एक और मामला सामने आया था।

bhalu

तेंदूखेड़ा वन परिक्षेत्र की सिलपुरा बीट के मिश्रित प्लांटेशन में पूरे क्षेत्र के जानवर पानी पीने आते हैं।  यहा 11 के व्ही लाइन से जीआई तार को फसाकर पानी मे डाल दिया गया था। जिससे पानी मे फैले करेंट के संपर्क में आने से भालू की मौत हो गई। मौके पर पहुंचे बन अमले को एक पेड़ पर  तार, डोरी, बॉस आदि लटके मिले हैं। वन परिक्षेत्र में एक वर्ष में भालू की मौत का यह तीसरा मामला सामने आया है। 11 जनवरी को सैलवाडा सर्किल में तथा 5 सितंबार को केवलारी वीट के कँपार्टमेंट नंबर 172 में एक बुजुर्ग नर भालू मृत अवस्था में मिला था। पुनः सैलबाडा सर्किल में 26 दिसंबर को यह वारदात घटित हुई है।
संदिग्धों का पता लगाने पहुंचा डॉग एस्कॉर्ट-..

dog

सुबह डॉग स्कॉट के पहुंचने पर सबसे पहले डाग मृत पड़े जिसके रीछ के पास पहुंचा डॉग स्कॉट से भी शिकारियों का कुछ पता नहीं चल सका   जिसके कारण शिकारी वन विभाग की पकड़ में नहीं आ सका हालांकि वन विभाग के लोग कुछ लोगों से पूछताछ जरूर कर रहे है। शाम को दमोह से डीएफओ महेंद्र सिंह उईके, तेंदूखेड़ा वन मंडल अधिकारी डॉ रेखा पटेल, वन प्रभारी वन परिक्षेत्र अधिकारी सतीश पाराशर ,सैलवाड़ा सर्किल अधिकारी राकेश दुबे सहित वन कर्मियों के सामने रीछ का अंतिम संस्कार पीएम के बाद किया गया।

antim

पशु चिकित्सक हरिकांत बिलवार ने बताया कि जिस मादा भालू का पोस्टमार्टम किया गया है वह लगभग 3 वर्ष की थी। सैंपल फॉरेंसिक जांच एवं जहर खुरानी जैसी जांच के लिए सागर एवं जबलपुर भेजे जा रहे हैं। अभी यही प्रतीत हो रहा है कि करंट लगाकर भालू को मारा गया है क्योंकि वही से 11 केवी लाइन निकली है साथ ही करंट में उपयोग किए गए जी आई तार और अन्य सामग्री भी पाई गई है। तेंदूखेड़ा से विशाल रजक की रिपोर्ट

From Around the web