दृष्टिबाधित शिक्षक से महिला प्राचार्य को रिश्वत लेना महंगा पड़ा.. सागर लोकायुक्त टीम ने प्राचार्या को रंगे हाथों पकड़ा..

9000 की रिश्वत लेते प्रभारी प्राचार्य पकड़ी गई
 
रिश्वत
मप्र में रिश्वतखोरी का दंश कम होने का नाम नही ले रहा है। आए दिन होने वाली लोकायुक्त की ट्रैप कार्रवाई के बावजूद रिश्वतखोर अपनी आदतों से बाज नहीं आ रहे हैं। यहां तक की दृष्टिबाधित लोगों से जहां रिश्वत की मांग की जाने लगी है वही महिलाएं भी अब रिश्वतखोरी में पीछे नहीं है। ऐसा ही एक मामला आज फिर सामने आया है।

सागर लोकायुक्त की टीम ने कार्यवाही करते हुए हाई स्कूल की प्राचार्य को ₹9000 की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ने के बाद भ्रष्टाचार अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत कार्यवाही की है। दृष्टिबाधित शिक्षक रघुवीर प्रसाद विश्वकर्मा 39 वर्ष निवासी टैगौर वार्ड खुरई जिला सागर का जुलाई माह में एक्सीडेंट हो गया था जिस वजह से वह स्कूल नहीं जा पाए थे बाद में स्वस्थ होने पर उन्होंने मेडिकल फिटनेस सर्टिफिकेट पेश किये। जिसके बाद तीन माह वेतन मंजूरी के बदले में ₹9000 की रिश्वत की मांग की जा रही थी। की शिकायत सागर लोकायुक्त एसपी से किए जाने के बाद आज डीएसपी राजेश खेड़े के नेतृत्व में पहुंची  लोकायुक्त टीम ने कार्रवाई करते हुए बारधा हाई स्कूल की प्रभारी प्राचार्या सीमा नेक्या को 9 हजार रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ने में देर नही की।

इस कार्यवाही में लोकायुक्त उपुअ राजेश खेड़े, मंजू सिंह, निरीक्षक रोशनी जैन (चौहान) व विपुस्था स्टाफ शामिल रहा। इधर दृष्टिबाधित शिक्षक से एक महिला प्राचार्या द्वारा रिश्वत लिए जाने की खबर लोगों तक पहुंचने के बाद लोग ऐसे रिश्वतखोर ओं के खिलाफ और भी कठोर कार्रवाई किए जाने की मांग करते नजर आए। जिससे रिश्वतखोर रुपयों की मांग करने के पहले कई बार सोचे।

From Around the web