साल भर में नगर पालिका सीएमओ की अदला बदली चर्चाओं में.. नगरीय प्रशासन मंत्री के कृपा पात्र अधिकारी लेंगे एक दूसरे की जगह

निशिकांत और भैयालाल संभालेंगे एक दूसरे की कमान
 
सीएमओ बदले
मप्र के नगरीय प्रशासन विभाग द्वारा जारी आदेश के बाद अब दमोह तथा खुरई नगर पालिकाओं के सीएमओ एक दूसरे की जगह लेंगे। नगरीय प्रशासन मंत्री के कृपा पात्र बताए जा रहे दोनों अधिकारियों के स्थान परिवर्तन योग की वजह दीपावली के ठीक पहले केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल के दमोह नगर में कार्यक्रमो की अनदेखी करके सीएमओ निशिकांत का अवकाश पर जाना माना जा रहा है। वही मंत्री भूपेंद्र सिंह की कृपा दृष्टि के चलते उनको लूप लाइन की जगह मंत्री जी के क्षेत्र खुरई नगरपालिका की कमान दे दी गई है। इधर मंत्री जी के खुरई में खास रहे भैया लाल को दमोह में दम दिखाने के लिए भेज दिया गया है..

दमोह/सागर। प्रदेश की बड़ी नगर पालिका में शुमार तथा आने वाले दिनों में बड़े हुए परिसीमन के साथ कार्य करने की तैयारी कर रही दमोह नगर पालिका में कस्बाई क्षेत्र खुरई से सीएमओ को भेजा जाना और दमोह में अपने कार्यकाल के दौरान बड़ी खरीदीयो के लिए चर्चित रहे सीएमओ के लिए नगरीय प्रशासन मंत्री के क्षेत्र में बुलाया जाना अब चर्चाओं का विषय बना हुआ है।

भैयालाल

नगरीय प्रशासन विभाग के उपसचिव और दमोह के पूर्व कलेक्टर तरुण राठी के हस्ताक्षर से जारी प्रदेश के दो नगर पालिका अधिकारियों की अदला-बदली सूची के अनुसार दमोह नगर पालिका से सीएमओ निशी कांत शुक्ला को खुरई तथा खुरई में पदस्थ रहे भैया लाल सिंह को दमोह नगर पालिका की कमान सौंपी गई है। खुरई के लोग इनको मंत्री भूपेंद्र सिंह का कृपा पात्र बताते हैं वही दमोह से खुरई जा रहे निशी कांत शुक्ला पर भी मंत्री भूपेंद्र सिंह के कृपा पात्र होने की चर्चाएं सामने आती रही है।

Nishikant

शायद यही वजह रही है कि उनके कार्यकाल में दमोह नगर पालिका को हाई फाई बनाने के नाम पर जो बड़े स्तर पर खरीदारी हुई उसको लेकर भाजपा के नेता भी चुप्पी साधे रहे वही उनके तबादले के बाद अब इसको लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है। वैसे भी इनके कार्यकाल में स्थानीय मीडिया को राष्ट्रीय पर्व तक पर विज्ञापन से वंचित रहना पड़ा है जबकि नगर पालिका में जारी कमीशन खोरी, भ्रष्टाचार घटिया निर्माण गड़बड़ियों में में कहीं कोई कमी नहीं दिखी।

नए cmo

 इधर खुरई से दमोह आ रहे अधिकारी के भी वहां की मीडिया को (एक को छोड़कर) भी कोई खास महत्व नहीं देने के साथ कुछ रंगीन चर्चाएं भी सोशल मीडिया पर वायरल होती रही है। कुल मिला कर नगर पालिका चुनाव के पहले सीएमओ की अदला बदली के खेल से पालिका प्रशासन की व्यवस्थाओं पर असर पड़ना तय माना जा रहा है वही इससे नागरिकों को कितना फायदा मिलेगा इसलिए फिलहाल इंतजार करना होगा.. पिक्चर अभी बाकी है

From Around the web