बिजली करेंट के झटके देने वाले विभाग का कर्मचारी हुआ करेंट का शिकार.. समय पर उपचार मिलने से बची जान.. इधर करेंट की शिकार बालिका की समय पर उपचार नहीं मिलने से मौत..

 
समय पर उपचार मिलने से बची बिजली कर्मी की जान-
दमोह। बिजली का हाई पावर करेंट लगने के बाद भी समय पर इलाज मिल जाने से डूबती हुई सांसे वापिस लौट सकती है। ऐसा ही एक मामला देखने को मिला। जब करेंट के शिकार बिजली विभाग के ठेकेदार के कर्मचारी को जिला अस्पताल में तत्काल आक्सीजन व सहयोगियों की मसाज के जरिए सांसे लौट आई। वहीं करेंट की एक अन्य घटना की शिकार बालिका को समय पर उपचार नहीं मिलने से उसकी सांसे नहीं लौट पाई।  
 बारिश के दिनों में करंट के झटके लगना और गंभीर हादसों का शिकार होना आम बात बनी हुई है ।  पिछले कुछ दिनों में अनेक मवेशियों सहित कुछ लोग करंट लगने की वजह से अपनी जान गवा चुके हैं ।  ताजा मामला एक  विद्युत  कर्मचारी का करंट का शिकार हो जाना और गंभीर हालत में उसे जबलपुर रेफर किए जाने का सामने आया है।  जानकारी के अनुसार विद्युत मंडल में ठेकेदार के यहां कार्यरत कर्मचारी भरत पटेल शुक्रवार दोपहर फुटेरा बाद नरसिंह मंदिर के पास में खंबे पर चढ़कर विद्युत सुधार कार्य कर रहा था। दौरान अचानक विद्युत सप्लाई चालू हो जाने से उसे करंट का जोरदार झटका लग ने  से सीधा जमीन पर आ गिरा। 
बिजली करेंट के झटके देने वाले विभाग का कर्मचारी हुआ करेंट का शिकार.. समय पर उपचार मिलने से बची जान.. इधर करेंट की शिकार बालिका की समय पर उपचार नहीं मिलने से मौत..
तत्काल जिला अस्पताल में भर्ती कराए जाने और प्राथमिक उपचार मिल जाने के बाद उसे जबलपुर रेफर कर दिया गया। जहां उसका उपचार जारी है। पीड़ित कर्मचारी तेजगढ़ थाना क्षेत्र के हिनोती पुत्री घाट का निवासी बताया जा रहा है जो विद्युत मंडल के कांट्रैक्टर के अंडर में कार्यरत था।
करेंट की शिकार बालिका कि नहीं बच सकी जान-
बिजली करेंट के झटके देने वाले विभाग का कर्मचारी हुआ करेंट का शिकार.. समय पर उपचार मिलने से बची जान.. इधर करेंट की शिकार बालिका की समय पर उपचार नहीं मिलने से मौत..
दमोह जिले के तेजगढ़ थाना अंतर्गत इमलिया चौकी के किला गांव निवासी डेलन सिंह लोधी की 11 वर्ष की पुत्री को गुरुवार दोपहर जमीन में पड़ी विद्युत लाइन की चपेट में आ गई थी जिससे उसे करंट का तेज झटका लगने पर जिला अस्पताल लाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया शनिवार को पोस्टमार्टम उपरांत बालिका का शव परिजनों को सौंपा जाएगा। पुलिस ने मर्ग कायम करते हुए प्रकरण को जांच में लिया है
बिजली करेंट के झटके देने वाले विभाग का कर्मचारी हुआ करेंट का शिकार.. समय पर उपचार मिलने से बची जान.. इधर करेंट की शिकार बालिका की समय पर उपचार नहीं मिलने से मौत..
  बारिश के दिनों में जिस तरह से बिजली के खंभों से लेकर उनसे कनेक्टेड लोहे के अन्य खंभे व सामग्री करंट के झटके दे रहे हैं ठीक इसी तरह घरों में भी लोहे के तार इत्यादि भी विद्युत की अर्थ मिलते ही करंट मार रहे हैं। ऐसे में जरा सी सावधानी आपको करंट का शिकार होने से बचा सकती है। वही गाय, बैल आदि मवेशियों को भी विद्युत पोल के आसपास नही फ़टकने दे। क्योंकि विद्युत खंभों के पास भरा पानी व नमी जबरदस्त करंट का कारण बन रहा है। अटलराजेंद्र जैन

From Around the web