दशहरा पर दोपहर से देर रात तक दुर्गा प्रतिमा विसर्जन चल समारोह की चारो तरफ धूम.. हृदय स्थल घंटाघर से टॉकीज, पुराना थाना, महाकाली चौक होते हुए फुटेरा तालाब तक.. बेहतर पुलिस प्रशासनिक व्यवस्थाओ के साथ दिखा भक्ति मय उल्लास का माहौल..

 

दुर्गा प्रतिमा विसर्जन चल समारोह की जबरदस्त धूम

दमोह। शारदीय नवरात्र पर्व के समापन पर नगर तथा आसपास के क्षेत्रों में देवी प्रतिमाओं का विसर्जन चल समारोह धूमधाम के साथ निकाला गया कोरोना गाइड लाइन के चलते इस साल भी दशहरा जुलूस निकालने की इजाजत प्रशासन द्वारा नहीं दी गई थी लेकिन सभी दुगोत्सव समितियों को दस दस के ग्रुप के साथ प्रतिमा विसर्जन जुलूस निकालने की छूट दी गई थी।
दशहरा पर दोपहर से देर रात तक दुर्गा प्रतिमा विसर्जन चल समारोह की चारो तरफ धूम.. हृदय स्थल घंटाघर से टॉकीज, पुराना थाना, महाकाली चौक होते हुए फुटेरा तालाब तक.. बेहतर पुलिस प्रशासनिक व्यवस्थाओ के साथ दिखा भक्ति मय उल्लास का माहौल..


शनिवार दोपहर से दमोह नगर के विभिन्न क्षेत्रों से अलग-अलग दुर्गा प्रतिमाओं के जलूस हृदय स्थल घंटाघर पहुंचना शुरू हो गए थे। यहां पर उत्साह के साथ भक्ति पूर्ण प्रदर्शन करते हुए थोड़े-थोड़े अंतराल से दुर्गा प्रतिमाओं का टॉकीज तिराहा पुराना थाना सिटी नल महाकाली चौराहा गौरीशंकर तिराहा रेलवे फाटक होकर फुटेरा ताला पहुंचने का सिलसिला देर रात तक चलता रहा। शाम 8:00 बजे तक करीब 50 प्रतिमाए का विसर्जन हेतु फुटेरा तालाब तक पहुंच चुकी थी।
दशहरा पर दोपहर से देर रात तक दुर्गा प्रतिमा विसर्जन चल समारोह की चारो तरफ धूम.. हृदय स्थल घंटाघर से टॉकीज, पुराना थाना, महाकाली चौक होते हुए फुटेरा तालाब तक.. बेहतर पुलिस प्रशासनिक व्यवस्थाओ के साथ दिखा भक्ति मय उल्लास का माहौल..


 जिनको बारी-बारी से विसर्जन के इंतजाम में पुलिस प्रशासनिक अधिकारी पूरी मुस्तैदी के साथ जुटे नजर आए।  वही पूर्व के वर्षो की तुलना में इस बार तालाब पर सभी व्यवस्थाएं भी बेहतर नजर आई। इस दौरान भक्तजनों ने पूजन अर्चन के बाद नम आंख के साथ माता रानी को सुख शांति समृद्धि की कामना के साथ विदाई देते नजर आए विसर्जन का यह सिलसिला आधी रात के बाद तक जारी रहा। आयुष जैन की रिपोर्ट

From Around the web