थाना प्रभारी के सामने सीता नगर सिंचाई परियोजना के प्रोजेक्ट मैनेजर पर गुस्साए किसानों ने किया हमला.. जमीन का उचित मुआवजा नहीं मिलने से नाराज कुछ किसानों द्वारा किया जा रहा है बांध निर्माण कार्य का विरोध.. इधर भारतीय किसान संघ ने मांगों को लेकर सौंपा ज्ञापन..

 

 सीता नगर परियोजना के प्रोजेक्ट मैनेजर पर हमला

दमोह। जिले के नरसिंहगढ़ इलाके में सीता नगर सिंचाई परियोजना का कार्य कराने वाली कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर अन्य कर्मचारी के ऊपर गुस्साए किसानों की भीड़ द्वारा हमला किए जाने का घटनाक्रम सामने आया है। घायल प्रकाश जयंतीलाल सिंघानिया को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहा उनका इलाज जारी है।
खास बात यह है कि कलेक्टर के निर्देश पर आज ही निर्माण एजेंसी की टीम मानसून सत्र समाप्त हो जाने पर चार महिने बाद फिर से कार्य शुरू करने के लिए पहुची थी। वहीं जमीन के उचित मुआवजा को लेकर संबंधित किसानों के विरोध की आशंका के चलते बटियागढ़ थाना प्रभारी मनीष मिश्रा एवं घनश्याम पटवारी का भी भेजा गया था। लेकिन थाना प्रभारी के सामने करीब आधा दर्जन किसानों ने काम रूकवाने लाठियों से हमला कर दिया और पुलिस तमाशाई बनी रही।

बताया जा रहा है कि सीता नगर सिंचाई परियोजना के तहत अनेक किसानों को उनकी जमीन का सही मुआवजा नहीं मिलने को लेकर विवाद चल रहा है मामला कोर्ट में जाने के बाद भी किसानों के हक में फैसला नहीं आने पर किसान अपनी जगह पर काम करने देने को तैयार नहीं है जबकि जल संसाधन विभाग की निगरानी में कार्य कर रही कंपनी को किसानों की समस्या से कोई लेना-देना नजर नहीं आ रहा है यही वजह रही कि आज कंपनी द्वारा सीता नगर डैम के समीप कार्य शुरू कराते ही किसानों की भीड़ ने हमला बोल दिया।
थाना प्रभारी के सामने सीता नगर सिंचाई परियोजना के प्रोजेक्ट मैनेजर पर गुस्साए किसानों ने किया हमला.. जमीन का उचित मुआवजा नहीं मिलने से नाराज कुछ किसानों द्वारा किया जा रहा है बांध निर्माण कार्य का विरोध.. इधर भारतीय किसान संघ ने मांगों को लेकर सौंपा ज्ञापन..
 इसके बाद जिला अस्पताल में इलाज हेतु लाए गए घायल प्रकाश जयंतीलाल सिंघानिया प्राथमिक उपचार प्रदान किया गया। उनके सहयोगी का कहना है कि पूर्व में भी इस तरह की विवाद की स्थिति बनती रही है पुलिस प्रशासन को लिखित में शिकायत दिए जाने के बाद भी सुरक्षा प्रदान नहीं किए जाने से आज इस तरह के हालात निर्मित हुए हैं ऐसे में काम करना मुश्किल हो सकता है। फ़िलहाल पुलिस मामले में रिपोर्ट दर्ज करके जांच में जुटी हुई है।
भारतीय किसान संघ ने मांगों को लेकर सौंपा ज्ञापन
दमोह। भारतीय किसान संघ मध्यप्रदेश महाकौशल प्रांत मंत्री रमेश यादव द्वारा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, सागर संभाग कमिश्नर, कलेक्टर दमोह के नाम एसडीएम दमोह को ज्ञापन सौंपा गया। प्रांत मंत्री रमेश यादव ने बताया कि वर्ष 2021 में मानसून की औसत बारिश कम हुई है मानसून समाप्त हो चुका है नदी नालों की धाराएं टूट रही हैं बताया गया है कि संभाग के जिलों में शासन की योजना के अंतर्गत जल संसाधन विभाग द्वारा नदी नालों पर स्टॉप डेम, बैराज बनाए गए हैं।
                                     थाना प्रभारी के सामने सीता नगर सिंचाई परियोजना के प्रोजेक्ट मैनेजर पर गुस्साए किसानों ने किया हमला.. जमीन का उचित मुआवजा नहीं मिलने से नाराज कुछ किसानों द्वारा किया जा रहा है बांध निर्माण कार्य का विरोध.. इधर भारतीय किसान संघ ने मांगों को लेकर सौंपा ज्ञापन..
 पंचायत ग्रामीण विकास विभाग द्वारा राजीव गांधी जल ग्रहण क्षेत्र प्रबंधन प्रधानमंत्री सिंचाई योजना के अंतर्गत स्टॉप डेम बनाऐ गए व ग्रामीण यांत्रिकी विभाग (आरई एस) द्वारा नदी नालों पर स्टॉप डेम स्टाप डेम कम रिपटा बनाएंगे। प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के अंतर्गत ग्राम पंचायतों द्वारा स्टाप डेंम बनाए गए हैं।
थाना प्रभारी के सामने सीता नगर सिंचाई परियोजना के प्रोजेक्ट मैनेजर पर गुस्साए किसानों ने किया हमला.. जमीन का उचित मुआवजा नहीं मिलने से नाराज कुछ किसानों द्वारा किया जा रहा है बांध निर्माण कार्य का विरोध.. इधर भारतीय किसान संघ ने मांगों को लेकर सौंपा ज्ञापन..

 प्रशासनिक संबंधित विभागों के अधिकारियों द्वारा जल संग्रह करने गंभीर नहीं है जिससे आने वाले समय में भीषण जल संकट की स्थिति निर्मित होने की संभावना है। अभिलंब संबंधित विभागों द्वारा स्टाफ डेम बैराज के गेट शटर बंद कराई जाएं। जल संसाधन विभाग द्वारा तालाबों के अंदर डूब से निकली जमीन कृषि कार्य के लिए पट्टे पर दी जाती है। डूब की जमीन पर किसान खेती करते हैं और सिंचाई करते हैं, तालाबों का जलभराव कम हुआ है। डूब की जमीन पट्टे पर ना दी जाएं। कहीं ऐसा पाया जाता है तो संबंधित हो पर कार्यवाही हो।

From Around the web